यही सोच में पड़ी हूँ कैसे कहूँ अलविदा !!!


सभी कर रहे है इस साल को अलविदा !

सोची चलो मै भी करती हूँ ,

पर कैसे करू इसे विदा

ये सोच में पड़ी हूँ,


वो लम्हें वो यादें

जो मुझे जीना सिखाया

उसे कैसे करू विदा

यही सोच में पड़ी हूँ कैसे कहूँ अलविदा !


वो बीती हुई बातें ख्यालो में आ रही है

मेरे मन मष्तिक से गुजर रही है

यही सोच में पड़ी हूँ ,

कैसे कहूँ अलविदा !


एक-एक कर यादों को बटोर रही हूँ

अपनी दामन में समेट रही हूँ

कही वक्त आने पे, काम आ जाये

यही सोच के गठरी बांधे जा रही हूँ !


कुछ खुशियाँ कुछ गम समेटे

बैठी हूँ इस पल ,

क्या रखूँ और क्या विदा करूँ

यही सोच रही हूँ, हर पल !


कैसे!!!! विदा करूँ? मेरे गिरिधर गोपाल को

जब मै राह भटक रही थी

उन्होंने मुझे पथ दिखलाया

सही राह पर चलना सिखलाया!


मैं तो कर ली फैसला अभी !

न करना अलविदा कभी

बीते हुए साल को समेट लेती हूँ

अपने आँचल से बांध, दिल में छुपा लेती हूँ !


इसी के साथ नए साल की शुभ कामनाएँ मै देती हूँ

नई उम्मीदें अपनी नजरो में भर लेती हूँ

चलो फिर एक बार नये साल का स्वागत करती हूँ !


बस! इतना सीख देती हूँ ,

जब भी राह भटकना

उस बीते हुए पल की पोटली को खोलना

जो वो पथ दिखलाये उसी पथ पे चलना !!!!!!!!!!! ,


........साधना सिंह

4 टिप्‍पणियां:

  1. आपको नव वर्ष 2010 की हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपको नव वर्ष 2010 की हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

aap ka swagat hai ...!!!!